Tuesday, March 24, 2015

जिद

जीवन

जिंदगी के कितने मोड़ हैं
अब तो गिनती ही भूल गयी
बस चलना सीख लिया
और अब बस चलते जाना है
कोई साथ हो न हो
कोई साथ दे ना दे
हिम्मत नहीं हारनी
बस चलते जाना है
अब तो जिद है की
मंजिल को हराना है
उसे अब खुद मेरे सामने आना है

4 comments:

  1. आती है मंजिल सामने बस ऐसे ही हिमात रखनी होगी ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार दिगम्बर जी ...

      Delete