Monday, August 12, 2013

सूखा सावन



ये कैसा सावन आया

पेड़ो को सुखा गया

कोई फुहार न आई

ज़मीन बंजर हो गयी अब तो

इक बार तो बरस जाते

शायद कुछ पत्ते हरे हो जाते

एक फुहार तो पड़ जाती

ज़मीन कुछ नरम ही हो जाती

कभी सोचा न था 

कभी देखा भी न था

ऐसा सावन भी होता है

जो पेड़ो को सुखाता है

ज़मीन में दरारे डालता है

अगर सावन ऐसा है तो

मुझे कुछ और नही देखना है


8 comments:

  1. बहुत सुन्दर रचना .. बधाई आप को

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार मीना

      Delete
  2. बहुत सुन्दर रचना .

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर

    www.premkephool.blogspot.com

    ReplyDelete