Monday, August 12, 2013

अब आ जाओ


      
                     इक पेड़ लगाया था  

                     दोनो ने

                   मैंने सींच दिया है

                  अब आ जाओ

                       
       
         
           फल लगने लगे हैं

          छाया भी घनी है

          अब आ जाओ

          चिड़ियों ने घोंसले बना लिये

         पंछी भी बहुत आने लगे हैं

        अब आ जाओ

        अब और अकेले न सींचा जायेगा 

         फल भी अकेले न खा सकूंगी

          अब आ जाओ

         पंछी सब फल खराब कर देंगे

        चिड़ियाँ भी उड़ जायेंगी

       अपने बच्चे लेकर

       अब आ जाओ

       कहीं मेरा इंतज़ार दम न तोड़ दे

       यहीं मेरी कब्र न बन जाये कहीं

        अब आ जाओ

          हमारे  प्यार के पेड़ को 

        कब्र का पेड़ न बनाओ

        अब आ जाओ

10 comments:

  1. आपकी यह रचना कल मंगलवार (12-08-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  2. gajab ki rachna ..
    इक पेड़ लगाया था

    दोनो ने

    मैंने सींच दिया है

    अब आ जाओ
    shubhkamnaye ... .

    ReplyDelete
  3. bahut achhi rachna sakhi , dil ki gahraai tak chhu gayee...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार उपासना सखी

      Delete
  4. अब आ जाओ, सुंदर मनुहार ।

    ReplyDelete
  5. कहीं मेरा इंतज़ार दम न तोड़ दे

    यहीं मेरी कब्र न बन जाये कहीं

    अब आ जाओ

    हमारे प्यार के पेड़ को

    कब्र का पेड़ न बनाओ

    अब आ जाओ,....................सुन्दर, दिल तक पहुँची आप की रचना , बधाई

    ReplyDelete