Sunday, May 15, 2016

शबनम



 रात के अंधेरे मे 
जब छलक जाते हैं 
मेरे आंसू
सुबह लोग 
उन्हे शबनम समझ 
चूम लेते हैं

No comments:

Post a Comment