Wednesday, July 23, 2014

साथ



साथ हो उम्र भर का
हाथों में हाथ हो 
ये एक दिन की की नही
सदा की बात हो
लाख तूफान आयें
कभी ये साथ न छूटे
दुनिया छूटे तो छूटे
हाथों से कभी हाथ न छूटे

16 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (25.07.2014) को "भाई-भाई का भाईचारा " (चर्चा अंक-1685)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार राजेंदर जी

      Delete
  2. अच्छी कामना के साथ सार्थक प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. खुबसूरत अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete
  4. Replies
    1. हार्दिक आभार कालिपद जी

      Delete
  5. शानदार..और कुछ नहीं कहूँगा आज.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार संजय जी

      Delete
  6. Replies
    1. हार्दिक आभार आशा जी

      Delete