Sunday, June 10, 2012

इक घर

पांच उँगलियाँ एक सामान नहीं होती 


सातो रंग  एक जैसे नहीं होते 


सातो सुर भी अलग धुन देते हैं 


किसी से किसी की कोई बराबरी नहीं 


मगर 


पांच उँगलियाँ मिले तो 


इक मुट्ठी बन जाती है 


सातो रंग मिले तो 


इन्द्रधनुष  बन जाता है 


सातो सुर मिल जाएँ तो 


सरगम  पूरी हो जाती है 


मगर 


दो दिल मिल जाएँ तो 


इक सुंदर घर बन जाता है 

4 comments:

  1. bahut sahi kaha do dil milte hain tabhi ek sundar ghar ka nirmaan hota hai .......

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद ...उपासना सखी .....आप ने सदा मुझे प्रोत्साहन दिया है .....आभार

      Delete
  2. बहुत सार्थक बात रमा - यही तो "घर" और "मकान" का अंतर है - और आज की भागती हुई जिन्दगी में "घर" कम हो रहे हैं और "मकान" बढ़ते जा रहे हैं -

    ReplyDelete
  3. आभार श्यामल भाई .....

    ReplyDelete