Saturday, May 5, 2012

परी











   काश मै कोई परी होती
   मन के पंख लगा कर
  सारे जहाँ में उड़ती
  किसी को रोने न देती
  किसी की भूखा न रहने देती 
   हर बच्चे को प्यार देती 
   लालची को बहुत सताती 
   हर भिखारी को अमीर 
    और हर लूटेरे को 
     भिखारी बनाती
     किसी को तड़पने न देती 
     कोई प्यार के लिए न रोता 
     कोई बिन प्यार के न मरता 
     हर सपना पूरा करती 
     कोई खुशियों के लिए न
     कोई पैसे के लिए 
     कोई माँ बाप के लिए  
    कोई पति के प्यार के लिए 
    किसी को न तरसने देती 
    किसानो को भी रोटी मिलती 
     फूलों से रंग देती दुनिया को 
      काश मै परी होती 
     

12 comments:

  1. Really Heart Touching...

    Kash m Pari hoti to Duniya m koi dukhi nahi hota jadu ki chaddi guma dukh dur kar deti ....

    ReplyDelete
  2. पर ये परी खुशियाँ तो अब भी बाँट रही है

    ReplyDelete
  3. E! Pari mere paas bhi aana.....:(
    Mujhe bhi bahut kuch chahiye tumse..........

    ReplyDelete
  4. यह परी आप में पहले मौजूद है मेरी नजर में तो ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. hardik dhanywad praveena sakhi......aap ne itna pyar diya mujhe

      Delete
  5. काश मै कोई परी होती
    किसी को तड़पने न देती
    कोई प्यार के लिए न रोता
    कोई बिन प्यार के न मरता
    हर सपना पूरा करती
    Wow ,,,,,,,,,,

    ReplyDelete
  6. वाह!!! बहुत ही उम्दा नायाब कामयाब रचना.. खूबसूरत एहसास का शब्दांकन रमा....

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार दिलीप भाई

      Delete