Tuesday, March 13, 2012

दिल और फूल

                                                 फूलों में दिल छुपा कर लायी हूँ 
                                  
                                    ख्याल रखना इसका 




                                     आपने ठुकराया तो 


                               फूल मुरझा जायेंगे सब 


                                और दिल टूट जायेगा 


                              आप ही मालिक हैं 


                                    इस दिल के 


                         और आप ही माली हैं 


                                        इस बगिया के 


                      ख्याल रखना जरा 


                                   दोनों ही नाज़ुक हैं 


                  फूल तो और खिल जायेंगे 


                                    दिल कहाँ से आएगा दूसरा 


                माली को अपनी बगिया का 
                                         
                               और 


                         मालिक को दिल का ख्याल हो 
                                             
                                   तो कभी 


                  न कभी कोई फूल मुरझाये 




                        न कभी किसी का दिल टूटे 
                          
                                        

4 comments:

  1. ji haan ... dono hi najuk hain.. bade najuk... khayaal rakhna jaruri hai.. phool to fir se khil bhi jayen.. magar dil... toot gaya to ...

    ReplyDelete
  2. Dhanyawad Pravesh ji.....aap ne sahi kaha hai....

    ReplyDelete
  3. जैसे खिला फूल, मुरझाने के बाद नहीं खिलता वैसे ही दिल के साथ होता है ,बहुत अच्छी कविता है बिलकुल आपके जैसी ..........

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद उपासना सखी.... आपके प्यार का और सराहना का

      Delete