Sunday, July 1, 2012

दोस्ती की रीत

दोस्ती
दोस्ती करना तो आसान होता है
कर के निभाना
आसान नहीं होता
दोष
तो सब में होते हैं
खुद में
दोष ढूँढना आसान नहीं होता
अगर
सुधार  लो खुद को तो
कोई भी
रिश्ता निभाना बहुत आसान हो जाता है
अपनी गलती
कोई नहीं मानता कभी
ना करो तुम
ऐसी गलती किसी के दोष ढूँढने की
सब दोष
आपका ही निकालेंगे सदा
अपनालो
दुनिया की इस बेढंगी चाल को
खुद को
सुधार  सको जितना सुधार लो
निभ जाये
तो जी जान से निभा लो
न निभे तो
मुस्कुराकर किनारा कर लो
                                                                      यही रीत है 
                                       सीख लो इस रीत को
                                                वरना 
                                   बड़ी जालिम है ये दुनिया 
                                              बेमौत 
                                 मार डालेगी तुम्हे और सब 
                                             मुस्कुरा कर 
                              देखते हुए निकल जायेंगे तुम्हे 

6 comments:

  1. आज के समय में सफलता का सार्थक सूत्र....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद कैलाश जी .......

      Delete
  2. बहोत अच्छी कविता है...ब्लोग भी अच्छा है..अभिनंदन!!!
    म्य हिन्दी ब्लोग http://kavyadhara.com/hindi

    ReplyDelete